Notice: session_start(): A session had already been started - ignoring in C:\Apache24\htdocs\women_welfare\intro.php on line 3
 DEPARTMENT OF WOMEN & CHILD DEVELOPMENT

header
A    A    A   

विभाग का इतिहास एवं संक्षिप्त परिचय

भारत का सामाजिक तानाबाना स्वयं में जटिल और संवेदी है। सामाजिक, धार्मिक, शैक्षिक और पारिवारिक परिस्थितियां महिलाओं और बालिकाओं के लिए अनादिकाल से भेदभाव पूर्ण रही है। समाज में प्रचलित कुरीतियां एवं भेद-भाव जैसेः कन्या भ्रूण हत्या, असमान लिंगानुपात, बाल विवाह एवं बालिकाओं के प्रति परिवार की नकारात्मक सोच जैसी प्रतिकूलताओं के कारण प्रायः बालिकायें/महिलायें अपने जीवन, संरक्षण, स्वास्थ एवं शिक्षा जैसे मौलिक अधिकारों से वंचित रह जाती हैं। इन सामाजिक कुरीतियों को दूर करने हेतु सरकारी और गैर-सरकारी स्तर पर निरन्तर प्रयास भी किये जा रहे हैं। इस परिवेश के दृष्टिगत उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा मुख्यमंत्री कन्या सुमंगला योजना के रूप में नई पहल की जा रही है जो अत्यन्त आवश्यक है। राज्य सरकार द्वारा बालिकाओं एवं महिलाओं को सामाजिक सुरक्षा के साथ-साथ विकास हेतु नये अवसर प्रदान करने के लिए यह योजना प्रारम्भ की जा रही है। इसके फलस्वरूप जहांॅ एकतरफ कन्या भ्रूण हत्या एवं बाल-विवाह जैसी कुरीतियों के रोकथाम के प्रयासों को बल मिलेगा वहीं दूसरी ओर बालिकाओं को उच्च शिक्षा व रोजगार के अवसरों की ओर बढ़ने का अवसर प्राप्त होगा।

महिला सशक्तिकरण वर्तमान उत्तर प्रदेश सरकार की प्रतिबद्धता है। महिला सशक्तिकरण के आधारभूत स्तम्भ स्वास्थ्य एवं शिक्षा हैं। प्रदेश में बालिकाओं के स्वास्थ्य एवं शिक्षा के स्तर में वृद्धि करने तथा उनके भविष्य को उज्जवल बनाने के लिये ही राज्य सरकार द्वारा मुख्यमंत्री कन्या सुमंगला योजना बनाई गई है। इस योजना के क्रियान्वयन से ‘बेटी बचाओ बेटी पढ़ाओ’ की अवधारणा सुदृढ़ होगी तथा महिलाओं के सशक्तिकरण को भी बल मिलेगा।

History & Brief Introduction of the Department

India has had a complicated social structure. Social, religious, educational and family circumstances have been biased for women and girls since ages. The social vices and discrimination like female feticide, skewed sex ratio, child marriage and negative mindset for girls in the family etc prevalent in the society are barriers for girls and women to achieve their fundamental rights including protection, health and education. To end such inequalities and discrimination, there have been efforts made at by government as well as non-government organizations in the past and present scenarios. In addition to the existing efforts being made by the government, Uttar Pradesh is introducing a conditional cash transfer scheme as ‘Mukhyamantri Kanya Sumangla Yojna’ which is an initiative to ensure social security to the girl child along with her development. Because of this at one hand efforts to prevent social vices like female feticide and child marriage and on other hand girls will get an opportunity to advance towards opportunity of higher education and employment.

Women empowerment is a commitment of present Government of the State of Uttar Pradesh . Health and education are fundamental pillars of women empowerment. In order to improve status of health and education of girls and to brigthen their future, the state government has introduced Mukhyamantri Kanya Sumangala Yojna.




 

Best viewed with Internet Explorer  & 1024 x 768 resolution  
Developed by National Informatics Center Uttar Pradesh State Unit. Content provided & maintained by the Directorate of Women Welfare, Govt. of Uttar Pradesh.

Contact Information

Directorate of Women Welfare,
Government of Uttar Pradesh,
8th Floor, Jawahar Bhawan, Ashok Marg, Lucknow – 1 (Uttar Pradesh)

 

इंटरनेट एक्सप्लोरर, 1024 x 768 दृश्य पटल के साथ सबसे अच्छा कार्य करता है ।    
राष्ट्रीय सूचना विज्ञान केंद्र उत्तर प्रदेश राज्य इकाई द्वारा विकसित किया गया है ।
महिला कल्याण निदेशालय, उत्तर प्रदेश सरकार द्वारा प्रकरण प्रदान तथा अनुरक्षित की गई ।

संपर्क जानकारी

महिला कल्याण निदेशालय,
उत्तर प्रदेश सरकार,
8 वीं मंजिल, जवाहर भवन, अशोक मार्ग, लखनऊ – 1 (उत्तर प्रदेश)